मरनेगा कार्यों की आईईसी में नवाचार और जनजुड़ाव के तौर-तरीके अपनाएं जिला आईईसी समन्वयक -आयुक्त मनरेगा -जिला आईईसी समन्वयकों की राज्य स्तरीय बैठक जयपुर, 17 नवम्बर। मनरेगा आयुक्त श्रीमती शिवांगी स्वर्णकार ने जिला स्तर पर कार्य कर रहे आईईसी समन्वयकों को उनके जिले में योजनान्तर्गत किए जा रहे अच्छे कार्यों को नियमित रूप से जनसंचार के विभिन्न स्थानीय माध्मयों एवं राज्य स्तर पर भी शोकेस करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा

मरनेगा कार्यों की आईईसी में नवाचार और जनजुड़ाव के तौर-तरीके अपनाएं जिला आईईसी समन्वयक -आयुक्त मनरेगा -जिला आईईसी समन्वयकों की राज्य स्तरीय बैठक  जयपुर, 17 नवम्बर। मनरेगा आयुक्त श्रीमती शिवांगी स्वर्णकार ने जिला स्तर पर कार्य कर रहे आईईसी समन्वयकों को उनके जिले में योजनान्तर्गत किए जा रहे अच्छे कार्यों को नियमित रूप से जनसंचार के विभिन्न स्थानीय माध्मयों एवं राज्य स्तर पर भी शोकेस करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा
Spread the love

मरनेगा कार्यों की आईईसी में नवाचार और जनजुड़ाव
के तौर-तरीके अपनाएं जिला आईईसी समन्वयक
-आयुक्त मनरेगा
-जिला आईईसी समन्वयकों की राज्य स्तरीय बैठक

जयपुर, 17 नवम्बर। मनरेगा आयुक्त श्रीमती शिवांगी स्वर्णकार ने जिला स्तर पर कार्य कर रहे आईईसी समन्वयकों को उनके जिले में योजनान्तर्गत किए जा रहे अच्छे कार्यों को नियमित रूप से जनसंचार के विभिन्न स्थानीय माध्मयों एवं राज्य स्तर पर भी शोकेस करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि योजना में प्रदेश में काफी राशि खर्च की जा रही है, उपयोगी स्थायी परिसम्पत्तियों का निर्माण हो रहा है, गांव में गरीब व्यक्तियों तक इसका लाभ मिल रहा है, पलायन रुक रहा है लेकिन आईईसी की कमी के कारण इसकी जानकारी लोगों तक उस तरह पहुंच नहीं पा रही है।

श्रीमती स्वर्णकार ने गुरूवार को इंदिरा गांधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास संस्थान में आईईसी समन्वयकों की राज्य स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि विभिन्न लाइन विभागों के साथ मिलकर मनरेगा में खेल मैदान, एनिकट निर्माण, चरागाह विकास, अमृत सरोवर, पंजशाला कार्य, ग्रेवल सड़क निर्माण, पौधारोपण सहित काफी कुछ किया जा रहा है, लेकिन इन कार्यों को उच्च गुणवत्ता वाले फोटोग्राफ्स, सफलता की कहानी एंव शॉर्ट वीडियो के माध्यम से विभिन्न संचार माध्यमों पर प्रदर्शित, प्रकाशित, प्रसारित किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने इसके लिए एक चैनल और फीडबैक की प्रक्रिया विकसित करने के निर्देश दिए।
श्रीमती स्वर्णकार ने सभी आईईसी कॉर्डिनेटर्स के लिए सुनिश्चित लक्ष्य निर्धारित कर कार्ययोजना तय करने एवं हर माह 5 तारीख तक मासिक रिपोर्ट देने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने प्रचार-प्रसार के लिए नए नवाचार एवं सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने को कहा।

अतिरिक्त आयुक्त प्रथम ईजीएस श्री के.एम.दुडिया ने आईईसी कॉडिनेटर्स द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए अधिक से अधिक लोगों तक मरनेगा के अच्छे कार्यों का प्रचार-प्रसार करने को कहा। राजस्थान सुजस सम्पादकीय से जनसम्पर्क अधिकारी श्री आशाराम खटीक ने सफलता की कहानियों के लेखन, उनकी भाषा एवं गठन पर आईईसी कॉर्डिनेटर्स को मार्गदर्शन प्रदान किया। उन्होंने कहा कि प्रचार-प्रसार में भाषा की मर्यादा के साथ ही उसकी सहजता भी जरूरी है। आंकड़े एवं तथ्यों की पुष्टि भी किया जाना आवश्यक है।

अधिषासी अभियंता, ईजीएस श्री भास्कर त्रिपाठी ने सम्बोधित करते हुए जिला आईईसी
समन्वयकों को नियमित रूप से रिपोटिर्ंग करने, स्थानीय स्तर पर प्रकाशित समाचार का रिकॉर्ड रखने एवं मुख्यालय भेजने, मुख्यमंत्री ग्रामीण रोजगार गारंटी अभियान का प्रचार प्रसार करने, जनमनरेगा एप स्वयं डाउनलोड करने एवं सम्बन्धितों, जनप्रतिनिधियों को डाउनलोड कराने को कहा जिससे स्थानीय स्तर पर मनरेगा कार्यों की जानकारी मिल जाए। उन्होंने बेहतर प्रचार-प्रसार के लिए हर जिले में जिला जनसम्पर्क अधिकारी से समन्वय रखने को कहा।

बैठक में विभाग की सोशल मीडिया टीम के आरडीएस श्री हरिसिंह ने भी जिला आईईसी समन्वयकों को सम्बोधित कर उनके मूल कार्य को रेखांकित किया। टीम में शामिल श्री अरविंद शर्मा, श्री प्रांजल जैन ने भी प्रस्तुतिकरण के माध्यम से विभाग के सोशल मीडिया हैण्डल्स आदि की जानकारी दी एवं जिला आईईसी कॉर्डिनेटर्स से अपनी अपेक्षाएं बताईं। विभिन्न जिला आईईसी समन्वयकों ने ऑडियो-वीडियो प्रस्तुतीकरण के माध्यम से उनके जिलो के अच्छे कार्याें की जानकारी दी।
विजय कुमार पाराशर
आवाज राजस्थान की
9414302519

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *