50 लाख से अधिक श्रमिक नियोजन के साथ मनरेगा में राज्य देष में पहले पायदान पर: पायलट इनमें 13 लाख प्रवासी श्रमिक भी

Spread the love

50 लाख से अधिक श्रमिक नियोजन के साथ मनरेगा में राज्य देष में पहले पायदान पर: पायलट
इनमें 13 लाख प्रवासी श्रमिक भी

जयपुर 8 जून। उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बताया कि प्रदेश में मनरेगा योजना के तहत श्रमिक नियोजन प्रतिदिन 50 लाख से अधिक हो गया है। श्रमिक नियोजन की दृष्टि से राजस्थान देष में प्रथम स्थान पर है। नियोजित श्रमिकों में लगभग 13 लाख प्रवासी श्रमिक भी रोजगार पा रहे हैं।
पायलट ने बताया कि प्रदेष में कोरोना वायरस संक्रमण के चुनौती भरे समय में मनरेगा के तहत रोजगार मिलने से प्रदेष के ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को भरपूर आर्थिक संबल मिल रहा है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के कारण जहां अप्रेल माह में केवल 62 हजार श्रमिक नियोजित थे, वहीं विभाग के समन्वित प्रयासों से श्रमिक नियोजन बढ़कर 8 जून को 50.20 लाख से अधिक हो गया है।
उन्होंने बताया कि प्रदेष के भीलवाड़ा जिले में सर्वाधिक 4.11 लाख से अधिक श्रमिक नियोजित है। इसी प्रकार डंूगरपुर जिले में 3.55 लाख, बांसवाड़ा जिले में 3.50 लाख तथा अजमेर जिले में 2.67 लाख से अधिक श्रमिक नियोजित है।
श्री पायलट ने कहा कि मनरेगा में नियोजित 13 लाख प्रवासी श्रमिकांे में से लगभग सवा ग्यारह लाख के पास पहले से ही जॉब कार्ड थे और लगभग पौने दो लाख प्रवासी श्रमिकों को नये जॉब कार्ड जारी किये गये है।
उन्होंने बताया कि लॉकडाउन की वजह से लाखों की संख्या में देष के विभिन्न प्रान्तों से आये प्रवासी श्रमिकों को मनरेगा से रोजगार मिला व उन्हें आर्थिक संकट से उबरने में मदद मिली है। उन्होंने बताया कि प्रदेष में मनरेगा कार्यस्थल पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए गाइड लाईन की पालना की जा रही है।
विजय कुमार पाराशर
आवाज राजस्थान की
9414302519

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *