मॉडल विलेज के रूप में होगा अरवड़ का विकास जिला कलक्टर राजपुरोहित एवं राज्य के अतिरिक्त महाधिवक्ता मेजर सिंह ने किया गांव का दौरा वन भूमि, तालाब, विद्यालय भवन और अन्य विकास कार्य होंगे

Spread the love

अजमेर। हाइकोर्ट के निर्देशों के तहत मॉडल विलेज के रूप में चयनित अरवड़ गांव में राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत विकास करवाए जाएंगे। गांव में वन भूमि, नर्सरी, तालाब, पाल, स्कूल भवन और अन्य कामों को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करवाया जाएगा। जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित और राज्य के अतिरिक्त महाधिवक्ता मेजर आर.पी. सिंह ने आज गांव का दौरा कर विभिन्न कार्यों का जायजा लिया। निवर्तमान अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठौड़ भी उनके साथ रहे। राजस्थान हाइकोर्ट के निर्देश पर मॉडल विलेज के रूप में चयनित ग्राम पंचायत अरवड़ में विकास कार्य कराए जा रहे है। जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने गांव की आवश्यकता के अनुरूप नये विकास कार्य आरम्भ करने के संबंध में ग्रामीणों के साथ चर्चा की। बैठक में विकास कार्यो को गति प्रदान करने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए।
अधिकारियों ने वन विभाग की सीमा में किए जा रहे आव निर्माण के कार्य का निरीक्षण किया। यह कार्य ग्राम पंचायत के माध्यम से करवाया जा रहा है। इस आव के पूर्ण होने से अरवड़ के बड़े तालाब में बरसाती पानी की पर्याप्त आवक हो पाएगी। जिला कलक्टर ने आव में आने वाले अवरोधों को हटाने के निर्देश दिए। वन भूमि से बहकर आने वाले बरसाती पानी के लिए पर्याप्त ढलान बनाया जाएगा। पानी के साथ बहकर आने वाली मिट्टी को रोकने के लिए विभिन्न स्थानों पर संरचनाएं निर्मित की जाएगी। उन्होंने वन विभाग की नर्सरी का अवलोकन कर पानी की कमी से विकास कार्य नहीं रोकने के निर्देश दिए। नर्सरी के पास स्थित पुराने कुएं की मरम्मत करवायी जाएगी। इस कुएं को गहरा करके इसके पानी का उपयोग कार्यो के लिए किया जाएगा। आवश्यकता होने पर ट्यूब-वैल से भी पानी लिया जाएगा। नर्सरी में पौधे तैयार करवाकर पौधारोपण को बढ़ावा दिया जाए। नर्सरी के पास स्थित पुराने भवन की मरम्मत करवाने के उपरान्त इसका उपयोग किया जाए। इनसे स्थानीय मजदूरों को रोजगार प्राप्त हो सकेगा।
उन्होंने अरवड़ स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय के पुराने खाली भवन का भी निरीक्षण किया। इस भवन को सामान्य मरम्मत के उपरान्त भविष्य में राजकीय कार्यालयों अथवा स्वास्थ्य केन्द्र के लिए उपयोग में लाने के निर्देश दिए। बड़ा तालाब के निरीक्षण के दौरान तालाब की पाल को मजबूत करने के लिए कहा। इसके लिए फेसवाल के प्रस्ताव तैयार किए जाएंगे। आव से बहकर आने वाली मिट्टी को रोकने के लिए आवश्यक प्रबन्ध किए जाएंगे। तालाब की पाल पर पौधा रोपण करवाया जाएगा। इसके लिए आवश्यक बजट सिचाई विभाग के माध्यम से उपलब्ध होगा। उन्होंने विद्यालय में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इसमें ग्रामीणों द्वारा अवगत करायी गई विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए निर्देश प्रदान किए। अरवड़ ग्राम की लगभग 1700 बीघा भूमि खरमोर प्रोजेक्ट के लिए निर्धारित की गई है। इसमें खरमोर सरंक्षण के कार्य किए जाएंगे। विद्यालय में पौधारोपण को बढ़ावा देने के लिए चारदीवारी को ऊंचा करवाने तथा खेल मैदान में बोरवेल के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। विद्यालय भवन की छत मरम्मत के लिए भी प्रस्ताव तैयार किए जाएंगे।
इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर गजेन्द्र सिंह राठौड़, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. गौरव सैनी, सरपंच सुनीता बैरवा, उप सरपंच कीर्ति निधि सिंह राठौड़, उपखण्ड अधिकारी अरविन्द शर्मा, विकास अधिकारी मधुसूदन रत्नू, सुधीर पाठक, सार्वजनिक निर्माण विभाग के केदार शर्मा, महात्मा गांधी नरेगा के अधिशाषी अभियंता कबीर अख्तर, प्रधानाचार्य मीनाक्षी टांक, सामाजिक कर्ता जसराज बैरवा, बहादुर खान तथा खुर्शीद खान उपस्थित रहे।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *