जिला कलेक्टर ने डेयरी प्लांट विजिट में दिखाया उत्साह, जिज्ञासा भाव से पूछे अनेक प्रश्न* ***लगभग सवा घंटा बिताया, डेयरी के नवीन प्लांट में*

जिला कलेक्टर ने डेयरी प्लांट विजिट में दिखाया उत्साह, जिज्ञासा भाव से पूछे अनेक प्रश्न*  ***लगभग सवा घंटा बिताया, डेयरी के नवीन प्लांट में*
Spread the love

*जिला कलेक्टर ने डेयरी प्लांट विजिट में दिखाया उत्साह, जिज्ञासा भाव से पूछे अनेक प्रश्न*

***लगभग सवा घंटा बिताया, डेयरी के नवीन प्लांट में*

*आवाज़ राजस्थान की*
—————–
अजमेर । अजमेर सरस डेयरी में शनिवार को जिला कलेक्टर अंशदीप विजिट करने पहुंचे। इस दौरान जिला कलेक्टर ने डेयरी अध्यक्ष रामचंद्र चौधरी एमडी उमेश चंद्र व्यास के साथ उत्साह पूर्व नवीन प्लांट की विजिट की।इस दौरान यहां की कार्यप्रणाली, दूध की आवक, इसका एकत्रीकरण तथा उपभोक्ताओं तक उत्पाद पहुंचाने पर जिज्ञासा भाव के साथ अनेक प्रश्न किए। उत्साहित व जिज्ञासा पूर्ण प्रश्नों का डेयरी के प्रयोगशाला प्रबंधक रमेश मल्लिक व अन्य तकनीशियन ने जिला कलेक्टर के प्रश्नों का माकूल जवाब दिए। जिला कलेक्टर ने किस उत्पाद को किस टेंपरेचर पर रखा जाता है ।हाइजीन तथा गुणवत्ता के लिए किन मापदंडों का प्रयोग किया जाता हैं, जैसे प्रश्न भी किए। सबसे पहले जिला कलेक्टर ने नवीन प्लांट के कंट्रोल रूम में पहुंचकर कंप्यूटर स्क्रीन पर संपूर्ण प्रक्रिया को सहजता के साथ समझा। दूध में ऑयल की मात्रा किस प्रकार जांची जाती हैं तथा इसका मापदंड क्या निर्धारित कर रखा है। सिंगल यूज की जगह वर्जन प्लास्टिक फ़ूड ग्रेड प्रमाण पत्र के साथ उपयोग में ली जाती है। अजमेर से बाहर सरस डेयरी के उत्पादन का मार्केट कितना है, इस पर भी जानकारी चाही। इस मौके पर डेयरी अध्यक्ष रामचंद्र चौधरी व एमडी उमेश चंद्र व्यास ने विस्तार से सभी जानकारियां का विश्लेषण किया। इसके अलावा फ्लेवर मिल्क टेस्टिंग में एसिडोमीटर के उपयोग तथा घी की गुणवत्ता तथा इसकी पैकिंग प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्राप्त की। असिस्टेंट मैनेजर प्लांट भारतेन्दु पाराशर ने पनीर उत्पादन की प्रक्रिया के बारे में जिला कलेक्टर को विस्तार से जानकारी दी ।
प्लांट बन गया पुलिया नहीं- इस मौके पर डेयरी सदर रामचंद्र चौधरी ने जिला कलेक्टर को अवगत कराया कि शहर से डेयरी को जोड़ने के लिए रेलवे ओवरब्रिज का कार्य विगत 4 सालों से निर्माणाधीन है। ब्रिज के कार्य के साथ ही डेयरी के नवीन प्लांट का कार्य भी शुरू हुआ था। डेयरी प्लांट पर अप्रत्याशित उत्पादन होने लग गया है लेकिन ब्रिज का कार्य अभी तक पूरा नहीं होने से पशुपालकों, दुग्ध उत्पादको व दूध संकलनकर्ताओं को लगभग पांच किलोमीटर की दूरी तय करके दुग्ध वाहनों के साथ यहां पर आना पड़ता है । इस पर जिला कलेक्टर ने शीघ्र ही यथोचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।
विजय कुमार पाराशर
आवाज़ राजस्थान की
9414302519


Spread the love

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *